X Close
X

रेलवे के जरिए बड़े पैमाने पर हो रही है जीएसटी की चोरी, सोसल मीडिया पर वीडियों वायरल


41431-b4252708-f2ac
Haridwar:

रेलवे के जरिए बड़े पैमाने पर हो रही है जीएसटी की चोरी, सोसल मीडिया पर वीडियों वायरल
============================================
हरिद्वार। सूत्रों के मुताबिक रेलवे के माध्यम से हरिद्वार में दूसरे राज्यों से प्रतिदिन लाखों रुपये का माल लाया जाता है। ट्रेन रुकी नहीं कि पलक झपकते ही ट्रेन के डिब्बों से बोरों में माल नीचे। यहां पहले से मौजूद रेहड़ा, लोडिंग टैंपो पल भर में ही यह माल गायब कर देते हैं। रेलवे के जरिए इस तरह बड़े पैमाने पर जीएसटी की चोरी हो रही है। इसमें दिल्ली से किरयाना, इलेक्ट्रानिक्स गुड्स, ड्राई फ्रूटस, हौजरी, रेडीमेड गारमेंट, कास्मेटिक, जूते, चप्पल व अन्य कर देय वस्तुएं शामिल हैं। मगर खानापूर्तिवश वाणिज्य कर विभाग द्वारा कभी कभार ही यह माल पकड़ा जाता है। इसके पीछे जीएसटी चोरी रोकने का दायित्व जिन विभागीय अधिकारी पर हैं उनका तर्क होता हैं कि वह रेलवे स्टेशन पर 24 घंटे नहीं बैठ कर निगरानी नहीं कर सकते हैं। राज्य कर विभाग भले ही लाख दावे करें, लेकिन कर चोरी से राजस्व का नुकसान करने के मामले थम नहीं रहे हैं। बाहरी शहरों से आए दिन कर चोरी के सामान की खेप हरिद्वार पहुंच रही है। ताजा मामला हरिद्वार रेलवे स्टेशन का हैं जिसका वीडियों सोसल मीडिया पर वायरल किया गया है। वायरल वीडियों में स्टेशन पर लाखों का सामान पड़ा हुआ दिखाई दे रहा है। जिसे दलाल बिना पार्सल रूम से रिलीज कराए सीधे वाहनों में रखते नजर आ रहे हैं। ट्रांसपोर्ट दलाल बिना बिल व बिल्टी के बेरोकटोक बैखोफ होकर रेल बोगियों में लाखों के पार्सल दिल्ली से लदान कराकर शहर के व्यापारियों की दुकानों व अपने गोदामों तक पहुंचा रहे हैं। पूरे मामले में सफेदफोश नेताओं का संरक्षण व विभागीय संलिप्तता के चलते दलालों के वारे न्यारे हो रहे हैं। विगत सप्ताह इस मामले में राज्य कर विभाग के उच्च अधिकारियों से शिकायत की गई थी , लेकिन शिकायत के बावजूद विभागीय अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी और एक सप्ताह पश्चात् भी प्रतिदिन लाखों रूपए की जीएसटी की चोरी करने वाले दलालों के खिलाफ कारवाई नहीं की हैं। नाम न छापने की शर्त पर ट्रांसपोर्ट का कार्य में संलिप्त दलाल ने बताया कि साहब उपर तक चढ़वा जाता हैं। कारवाई कौन करेगा ? पार्सल कार्यालय बुक होने वाले समान का आंकड़ा मात्र हजारों तक होगा, जबकि अवैध रूप से आने वाला माल लाखों रूपए का होता हैं। वहीं वाणिज्य कर अधिकारी एन सी जोशी का कहना हैं कि वह 24 घंटे केवल रेलवे स्टेशन पर ही नहीं बैठे रह सकते । बाजार में माल पकड़ना मुश्किल होता हैं। उनका कहना हैं कि शिकायत पर कारवाई की जाती हैं। - यूएस न्यूज

Uttarakhand Stambh News