X Close
X

कोटद्वार और हरिद्वार के बाद रुड़की नगर निगम चुनाव में भाजपा को मिली करारी हार


41431-1e3f82b8-6b27
Haridwar:

कोटद्वार और हरिद्वार के बाद रुड़की नगर निगम चुनाव में भाजपा को मिली करारी हार
रूड़की निकाय चुनावों में भाजपा के बागी गौरव गोयल बने महापौर

=================================

हरिद्वार / रूड़की । कोटद्वार और हरिद्वार नगर निगम चुनावों में हार का मुंह देख चुकी भाजपा को रुड़की नगर निगम के प्रतिष्ठापूर्ण चुनाव में पार्टी से बगावत कर महापौर पद पर मैदान में उतरे निर्दलीय प्रत्याशी गौरव गोयल करारी शिकस्त दी हैं। निकाय चुनावों में कोटद्वार और हरिद्वार में मिली हार के बावजूद प्रदेश नेतृत्व ने इससे सबक नहीं लिया इसी के चलते भाजपा को हार का मुंह देखना पड़ा । भाजपा प्रत्याशी मयंक गुप्ता को लेकर स्थानीय लोगों में खासी नाराजगी थी। भाजपाई नेता भी इस बात से खासा वाकिफ थे, लेकिन प्रचण्ड के घमण्ड में डूबी भाजपा अपनी करनी पर ही भरोसा जताए हुए थी। यहां तक की पार्टी का काॅडर वोट बैंक भी खिसककर निर्दलीय के पाले में ही पहुंच गया। मयंक गुप्ता ने सत्ता एवं संगठन में मजबूत पकड़ बनाई। इसमें कोई दो राय नहीं है, लेकिन शहर के अंदर प्रत्याशी को लेकर जबरदस्त नाराजगी थी। भाजपा के वोट बैंक ने भी इसका खासा विरोध किया था। नाराजगी इस कदर थी कि रूड़की विधायक प्रदीप बत्रा अपने ही वार्ड से भाजपा प्रत्याशी को निर्दलीय प्रत्याशी के मुकाबले वोट नहीं दिला पाए। प्रदीप बत्रा के वार्ड से भाजपा को करारी शिकस्त मिली। विधायक के तमाम प्रयास के बावजूद मतदाताओं ने भाजपा प्रत्याशी को पसंद ही नहीं किया। सीएम सहित कई प्रदेश स्तरीय नेताओं ने भाजपा प्रत्याशी के प्रचारआयोजित जनसभा के दौरान कहा था कि गलतियां हो जाती है। मयंक गुप्ता से भी गलती हुई होगीए उनको माफ कर देना लेकिन रुड़की के मतदाताओं ने भाजपा को नकार दिया।शहर के अंदर तो भाजपा को करारी शिकस्त मिली लेकिन शहर के बाहर आउटर के बीस वार्ड में भाजपा कोई करिश्मा नहीं दिखा पाई। पहली बार इन क्षेत्रों में नगर निगम के लिए वोट डाले गए, लेकिन भाजपा के बजाए यहां पर भी निर्दलीय प्रत्याशी ही बढ़त बनाकर चलते रहे। वहीं निष्कासन की चाबुक चलाकर भाजपा ने कार्यकर्ताओं को डर दिखाने की कोशिश की, लेकिन कार्यकर्ताओं ने अंदर खाने पार्टी के बागी को ही वोट किया। पार्षद पद के उम्मीदवारों में अन्य दलों की तुलना में भाजपा का प्रदर्शन तो शानदार रहा हैए लेकिन पार्टी के विधायक अपने वार्ड में भी पार्टी के उम्मीदवार को नहीं जीता सके।मतदाताओं ने भाजपा और कांग्रेस गौरव ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के प्रत्याशी रिशु राणा को 3451 मत से हराया है। जबकिए भाजपा प्रत्याशी मयंक गुप्ता 19142 वोट लेकर तीसरे स्थान पर रहे। पूर्व सांसद एवं बसपा प्रत्याशी राजेंद्र बाडी समेत सात प्रत्याशी जमानत नहीं बचा पाए। बाडी को 4575 मतों पर संतोष करना पड़ा। पार्षदी में भी निर्दलीयों का जलवा रहा। 40 सदस्यीय बोर्ड में 19 पार्षद निर्दलीय जीतकर आए हैं। भाजपा की झोली में 18 पार्षद आए हैं। जबकि कांग्रेस दो और बसपा ने एक पार्षद पद जीतकर लाज बचाई। रुड़की नगर निगम के चुनाव में महापौर और पार्षद पदों के लिए 22 नवंबर को वोट डाले गए थे। कांग्रेसए भाजपा एवं बसपा समेत 10 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। इनमें से केवल तीन ही जमानत बचा पाए। रविवार को सुबह आठ बजे से मतगणना शुरू हुई जो देर रात तक चली। मतगणना चार चरणों में पूरी हुई। भाजपा से बगावत कर चुनाव मैदान में उतरे निर्दलीय प्रत्याशी गौरव गोयल प्रथम चरण से ही भाजपा व कांग्रेस प्रत्याशी से बढ़त बनाए हुए थे।

Uttarakhand Stambh News